Monday, July 15, 2024

Chhath Puja 2023 Geet Lyrics In Hindi Popular Chhath Songs In Hindi Know

Chhath Puja 2023 Geet Lyrics: छठ के इस महापर्व पर जानें छठ के लोकप्रिय लोक गीत, जिनको गाने से प्रसन्न होती हैं छठी मैइया. छठ पूजा में इन लोक गीतों का बहुत है. जितना महत्व छठ पर व्रत रखने का है उतना ही महत्व इस दिन गीत का भी है. आइये जानते हैं इस दिन के प्रसिद्ध लोक गीत

छठ पूजा के गीत- पहला

पहिले पहिल हम कईनी

छठी मईया व्रत तोहार ।

करिहा क्षमा छठी मईया,

भूल-चूक गलती हमार ।

सब के बलकवा के दिहा,

छठी मईया ममता-दुलार ।

पिया के सनईहा बनईहा,

मईया दिहा सुख-सार ।

नारियल-केरवा घोउदवा,

साजल नदिया किनार ।

सुनिहा अरज छठी मईया,

बढ़े कुल-परिवार ।

घाट सजेवली मनोहर,

मईया तोरा भगती अपार ।

लिहिएं अरग हे मईया,

दिहीं आशीष हजार ।

पहिले पहिल हम कईनी,

छठी मईया व्रत तोहर ।

करिहा क्षमा छठी मईया,

भूल-चूक गलती हमार ।

छठ पूजा के गीत- दूसरा

 ऊ जे केरवा जे फरेला खबद से

ओह पर सुगा मेड़राए।

मारबो रे सुगवा धनुख से,

सुगा गिरे मुरझाए ।

ऊ जे सुगनी जे रोएली वियोग से,

आदित होई ना सहाय

ऊ जे नारियर जे फरेला खबद से,

ओह पर सुगा मेड़राए ।

मारबो रे सुगवा धनुख से,

सुगा गिरे मुरझाए ।

ऊ जे सुगनी जे रोएली वियोग से,

आदित होई ना सहाय ।

अमरुदवा जे फरेला खबद से,

ओह पर सुगा मेड़राए ।

मारबो रे सुगवा धनुख से,

सुगा गिरे मुरझाए ।

ऊ जे सुगनी जे रोएली वियोग से,

आदित होई ना सहाय ।

शरीफवा जे फरेला खबद से,

ओह पर सुगा मेड़राए ।

मारबो रे सुगवा धनुख से,

सुगा गिरे मुरझाए ।

ऊ जे सुगनी जे रोएली वियोग से,

आदित होई ना सहाय ।

ऊ जे सेववा जे फरेला खबद से,

ओह पर सुगा मेड़राए ।

मारबो रे सुगवा धनुख से,

सुगा गिरे मुरझाए ।

ऊ जे सुगनी जे रोएली वियोग से,

आदित होई ना सहाय ।

सभे फलवा जे फरेला खबद से,

ओह पर सुगा मेड़राए ।

मारबो रे सुगवा धनुख से,

सुगा गिरे मुरझाए ।

ऊ जे सुगनी जे रोएली वियोग से,

आदित होई ना सहाय ।

छठ पूजा के गीत- तीसरा

कांच ही बास के बहंगिया बहंगी लचकत जाए ,

बहंगी लचकत जाए ।

पेन्ही न पवन जी पियरिया दउरा घाटे पहुचाये …

दउरा घाटे पहुचाये ।

कांच ही बास के बहंगिया बहंगी लचकत जाए ,

बहंगी लचकत जाए ।

पेन्ही न पवन जी पियरिया दउरा घाटे पहुचाये

दउरा घाटे पहुचाये ।

दउरा में सजल बाटे फल फलहरिया,

पियरे पियर रंग शोभे ला डगरिया ।

दउरा में सजल बाटे फल फलहरिया,

पियरे पियर रंग शोभे ला डगरिया ।

जेकर जाग जाला भगिया उह्हे छठ घाटे आये ,

पेन्ही न पवन जी पियरिया दउरा घाटे पहुचाये ।

ये भी पढ़ें: Chhath Puja 2023 Arghya Time: छठ पर्व पर आपके शहर में कब दिया जाएगा अर्घ्य, जानिए संध्या और ऊषा अर्घ्य का समय

Disclaimer: यहां मुहैया सूचना सिर्फ मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. यहां यह बताना जरूरी है कि ABPLive.com किसी भी तरह की मान्यता, जानकारी की पुष्टि नहीं करता है. किसी भी जानकारी या मान्यता को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से सलाह लें. 

Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular